हिंदी वर्णविचार | हिन्दी वर्णमाला परिभाषा-भेद-उदाहरण

हिंदी वर्णविचार , हिन्दी वर्णमाला, परिभाषा-भेद-उदाहरण

हिंदी वर्णविचार , हिन्दी वर्णमाला, परिभाषा-भेद-उदाहरण
हिंदी वर्णविचार , हिन्दी वर्णमाला, परिभाषा-भेद-उदाहरण 

हिंदी वर्ण विचार
   नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज हम आपके लिए लेकर आए हैं हिंदी व्याकरण का टॉपिक विचार 

  यह टॉपिक बहुत सावधानी पूर्वक तैयार किया गए है फिर भी अगर कोई गलती होती है या फिर आपको कोई सुझाव देना हो तो अब कम एक ब्लॉक में कमेंट करके बताएं 

धन्यवाद ।

NOTES

DOWNLOAD LINK

REET

DOWNLOAD

REET NOTES

DOWNLOAD

LDC

DOWNLOAD

RAJASTHAN GK

DOWNLOAD

INDIA GK

DOWNLOAD

HINDI VYAKARAN

DOWNLOAD

POLITICAL SCIENCE

DOWNLOAD

राजस्थान अध्ययन BOOKS

DOWNLOAD

BANKING

DOWNLOAD

GK TEST PAPER SET

DOWNLOAD

CURRENT GK

DOWNLOAD


यह भी पढ़े :- 1857 की क्रांति

वर्ण विचार:-

● किसी भाषा के व्याकरण ग्रंथ में इन तीन तत्वों की विशेष एवं आवश्यक रूप से चर्चा / विवेचना की जाती है :- 
  ◆ वर्ण :- भाषा की सबसे छोटी इकाई वर्ण होती है जिसके टुकड़े नहीं किए जा सकते, वह वर्ण कहलाती है।जैसे :- क, ख, च 
  ◆ शब्द :- भाषा की सबसे छोटी इकाई वर्ण होती है वर्णों के सार्थक समूह को शब्द कहते हैं। जैसे :- अखबार
  ◆ वाक्य :- शब्दों के सार्थक समूह को वाक्य कहते हैं। जैसे :- वह अखबार पढ़ रहा है
● हिंदी विश्व की सभी भाषाओं में सर्वाधिक वैज्ञानिक भाषा है।
● हिंदी में 44 वर्ण हैं जिन्हें दो भागों में बांटा जा सकता है:-
  ◆ स्वर और व्यंजन

स्वर :-

स्वर क्या होता है ?

● ऐसी ध्वनियां जिनका उच्चारण करने में अन्य किसी ध्वनि की सहायता की आवश्यकता नहीं होती, उन्हें स्वर होते हैं।  
● स्वर 11 होते हैं:-
  ◆ अ, आ , इ , ई , उ , ऊ , ए , ऐ , ओ,औ, ऋ
● स्वरों को दो भागों में बांटा जा सकता है:-
   ◆ ह्रस्व स्वर एवं दीर्घ स्वर

ह्रस्व स्वर :-

● जिन स्वरों के उच्चारण में कम-से-कम समय लगता हैं उन्हें ह्रस्व स्वर कहते हैं। 
● इन्हें मूल स्वर भी कहते हैं।
● ये चार हैं- अ, इ, उ, ऋ

दीर्घ स्वर-

● जिन स्वरों के बोलने में अधिक समय लगता है उन्हें दीर्घ स्वर कहते हैं। 
● ये हिन्दी में सात हैं- आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ।
● हिंदी वर्णमाला में 11 स्वर और 33 व्यंजन अर्थात कुल 44 वर्ण तथा 3 संयुक्त आकार है।

व्यंजन :-

व्यंजन क्या होता है :- 

● जो ध्वनियाँ स्वरों की सहायता से बोले जाते हैं उन्हें व्यंजन कहते हैं। 
● हर व्यंजन स्वर की सहायता से ही बोला जाता है। 
● इन्हें पाँच वर्गों तथा स्पर्श, अन्तस्थ एवं ऊष्म व्यजनों में बाँटा जा सकता है।

स्पर्श  

● जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय हवा कंठ, तालु, मूर्धा, दाँत या ओठो का स्पर्श करके मुख से बाहर आती है, उन्हें स्पर्श व्यंजन कहते हैं ।
● इनकी संख्या 25 होती है।(क से म तक)
कवर्ग :-
● क , ख , ग , घ , ङ
च वर्ग :-
च , छ , ज , झ , ञ
ट वर्ग :-
ट , ठ , ड , ढ , ण 
त वर्ग : 
त , थ , द , ध , न
प वर्ग : 
प , फ , ब , भ , म
अंतस्थ : 
जिन व्यंजनों का उच्चारण स्वरों और व्यंजनों के मध्य का होता है, उन्हें अंतःस्थ व्यंजन कहते हैं ।
● अंतस्थ व्यंजन चार प्रकार के होते हैं :-
  ◆ य , र , ल , व्
ऊष्म :-
जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय हवा मुँह में टकराकर ऊष्म (गर्मी) पैदा करती है, उन्हें ऊष्म व्यंजन कहते हैं ।
● ऊष्म व्यंजन भी चार प्रकार के होते हैं :-
  ◆ श , ष , स , ह

संयुक्ताक्षर :- 

● इनके अतिरिक्त हिंदी में तीन संयुक्त व्यंजन भी होते है :-
क्ष  - क् + ष्
त्र  - त् + र्
ज्ञ - ज् + ञ्

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ